What Is Web Hosting In hindi - Web Hosting काम कैसे करती है

हेय दोस्तों आज हम सीखेंगे वेब होस्टिंग क्या होती है, इसके प्रकार कितने है, वेब होस्टिंग काम कैसे करती है। और इसे कहा से ख़रीदे यह सारी चीज़े आज हम सीखेंगे।



आजके समय में data काफी सस्ता हो गया है हर कोई डेली GB को पूरा करने इंटरनेट और यूट्यूब पर एक्टिव रेह्ते है इनमे कई ऑनलाइन बिज़नेस को शुरू करते है, जब की आप वेबसाइट के माध्यम से बिज़नेस शुरू करते हो तो आपको वेब होस्टिंग का ज्ञान आवश्यक है।

जब आप एक ब्लॉग या फिर वेबसाइट बनाते हो उसमे सबसे पहले और जरुरी है डोमेन name और वेब होस्टिंग। डोमेन वेबसाइट का नामकरण है और वेब होस्टिंग एक तरह से चीज़े स्टोर करने की जगह।

सरल भाषा में समझे तो वेब होस्टिंग एक storage की तरह है जो आपके ब्लॉग और वेबसाइट के कंटेंट्स को स्टोर करके रखता है। चलिए जानते है वेब होस्टिंग के कितने प्रकार होते है।

⇛ Web hosting क्या है : -

सरल सी बात है अगर आपको इंटरनेट पर वेबसाइट या ब्लॉग शुरू करना हो तो डोमेन और वेब होस्टिंग लेना बोहत आवश्यक है, इसके बिना आप ब्लॉग या वेबसाइट शुरू नहीं कर सकते। हाँ, जब आप ब्लॉगर पर ब्लॉग create करते हो तो आपको blogspot.com नाम का डोमेन दिया जाता है जो फ्री और होस्टेड रहता है।

Also read..

डोमेन के साथ होस्टिंग इस लिए काफी जरुरी है क्यूंकि जब इंटरनेट पर हम हमारा ब्लॉग या वेबसाइट लेकर जाते है तो इंटरनेट में वेबसाइट के लिए स्पेस होना जरुरी है, मतलब होस्टिंग हमे इंटरनेट में रहने के लिए स्पेस देता है जिसमे हम वेबसाइट की चीज़े शामिल होती है। 

और वेबसाइट जिस नाम से जाना जाता है उसे डोमेन कहते है, तो यह दोनों चीज़े शुरुआती में बोहत महत्त्व की है। 

जैसे मनुष्य को धरती पर रहने के लिए एक चोक्कस स्थान होना बोहत जरुरी है जिहा वह रह सके यानि घर और मकान उसी तरह वेब होस्टिंग इंटरनेट की दुनिया में हमारी वेबसाइट और ब्लॉग को 24 घंटे एक्टिव रखता है। 

वेब होस्टिंग में हमारी साइट के पोस्ट के फोटोज, वीडियो, डाक्यूमेंट्स और भी कई चीज़े जो आप पोस्ट में और साइट में शेयर करते हो उसका संग्रह करती है। 

उसके बाद जहा से हम अपनी साइट के लिए होस्टिंग खरीदते है वह वेब होस्टिंग है जिसमे हमे मंथली और साल का पैकेज हम वह से खरीदते है। 

⇛ Web Hosting के कितने प्रकार होते है : -


  • Shared web hosting
  • Cloud web hosting
  • Dedicated web hosting
  • Reseller web hosting
  • VPS web hosting
  • Grid web hosting

1. Shared web hosting

shared web hosting अगर आप एक begginer हो तो आपके लिए यह बेस्ट होस्टिंग है। शेयर्ड होस्टिंग यानि शेयर करना। इन होस्टिंग के सर्वर में एक या उससे अधिक वेबसाइट को रख सकते है। 

हर होस्टिंग में ग्राहक के पास यह अनुमति होती है की वह सर्वर के संसाधनों की  कुछ सिमा तक उसका उपयोग कर सके जो होस्टिंग खरीदते वक़्त आपको बताया जाता है। 

शेयर्ड होस्टिंग नयी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए सरल सस्ता और फायदेमंद साबित हुआ है। लेकिन कई बार प्राइस की भी सिमा है लेकिन आप afford कर सकते है। 

इसके लाभ की तरफ देखते है.. 

शेयर्ड होस्टिंग सबसे सस्ती होस्टिंग मेसे एक है जिसे आप 300 rs 760 rs के बीचमे खरीद सकते हो। 

Hosting provider - Hostgator  

hostgator में आपको इस प्राइस से शेयर्ड होस्टिंग मिल सकती है। कई कम्पनीज के पास ज्यादातर होस्टिंग के लेवल उपलब्ध है जिसके वजह से आप इसे समय दरमियान अपग्रेड भी कर सकते है, इसके वजह से शेयर्ड होस्टिंग ज्यादा उपयोग में आती है। 

आमतौर पर होस्टिंग पैकेज में maintenance शामिल होता है इस वजह से आपको maintenance की जरुरत नहीं पड़ेगी। 

इसके गेरलाभ को समझते है ... 

जैसे की आपने देखा शेयर्ड होस्टिंग काफी अच्छी है इसे मैनेज करना सरल है और सस्ती भी है लेकिन उसके बावजूद इसमें कई कमिया भी शामिल है।

dedicated सर्वर की तुलना में शेयर्ड होस्टिंग का load समय काफी कम हो सकता है यानि इसके सर्वर loading का समय थोड़ा धीमा पड सकता है।

कभी कबार ऐसा भी हो सकता है की जब आपकी वेबसाइट या ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक आने लग जाये तब शेयर्ड होस्टिंग का प्रदशन थोड़ा ख़राब हो सकता है यानि की सर्वर मुसकेलि पैदा कर सकता है।

सिर्फ होस्टिंग के माध्यम से ही आपकी वेबसाइट का perfomance नहीं सुधर सकता और भी कई कमियों के कारण भी आपकी साइट स्लो हो सकती है।

2. Cloud web hosting

Cloud web hosting है जो बोहत सारे clustered का सर्वर को उपयोग करने में आता है। क्लाउड होस्टिंग वेबसाइट के होस्टिंग की तमाम चीज़ो का समावेश करने के लिए virtual resource का उपयोग करती है। यानि वेबसाइट के अंदर जो जरुरी कार्य का समावेश होता है उनके लिए उपयोगी है।

क्लाउड होस्टिंग का laod समय काफी हद तक सिमित और balanced है। वेबसाइट होस्टिंग की सारी सुरक्षा और हार्डवेयर की सारि resources इसमें दी गयी है, जिससे हमे जब भी जरूर पड़े हम इसे access कर सकते है।

क्लाउड होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग के मात्रा में फायदे कारक है यानि यह उन वेबसाइट का समाधान करती है जो काफी ट्रैफिक हासिल करती है, जब की शेयर्ड होस्टिंग का प्रदशन बिगड़ जाता है।

क्लाउड होस्टिंग में वेबसाइट आपके खुद के सर्वर पर रहती है जब की शेयर्ड होस्टिंग में इसे यूज़ कर पाना थोड़ा मुश्केली भरा है क्यूंकि जीतनी वेबसाइट पॉपुलर होगी access करना थोड़ा कठिन, जिससे आपको दूसरे सर्वर से समाधान करना पड सकता है।

इसमें कोई सक नहीं की क्लाउड होस्टिंग अच्छी है लेकिन यह महंगा भी उतना ही है जिसमे बड़े लेवल तक जानकारी होती है, क्लाउड होस्टिंग में आप बिना किसी मुसकेलि के कार्य कर सकते है यह काफी सरल प्रक्रिया है।

इसमें काफी प्रवृति शामिल है जिससे आप एक अच्छी सर्विस दे सकते है वैसे ग्रोथ के लिए यह काफी बढ़िया है। अगर आप इन्वेस्ट कर सकते है तो आप वेबसाइट को इसका लाभ दे सकते है। यह थोड़ी महंगी हो सकती है।


3. Dedicated web hosting 

Dedicated web hosting यूजर को सारी गोपनीयता और उच्चतम सर्विस दी जाती है। यानि इसमें सर्वर पर आपका पूरी तरह से नियंत्रण रेहता है। डेडिकेटेड होस्टिंग में सर्वर का कार्य काफी हद तक अलग होता है इसके वजह से इस होस्टिंग के संचालको ने इसका एक्सेस का सारा कार्य यूजर को सोप देते है, मतलब इसका पूरा एक्सेस हमे मिलता है।

ऐसा नहीं है की हम सर्वर के मालिक बन जायेंगे लेकिंग इसकी सिक्योरिटी और केयर ( maintenance ) की जिन्मेदारी कस्टमर की है।

जैसा मैंने आपको शेयर्ड होस्टिंग के बारे में बताया जिसमे ज्यादा ट्रैफिक बढ़ने से वेबसाइट के load समय पर अशर पड़ता है जिससे वेबसाइट का प्रदशन बिगड़ता है लेकिन डेडिकेटेड होस्टिंग में ऐसा बिलकुल नहीं है।

इसके लाभ देखते है ...

इसके फायदे यह है की सर्वर की प्राइवेसी, कण्ट्रोल और VPS होस्टिंग और डेडिकेटेड होस्टिंग दोनों के फायदे आपको दिए जायेंगे।

हालांकि यह सारी चीज़े किसी भी अन्य यूजर के साथ शेयर नहीं करना चाहिए उसी वजह से वेबसाइट के कुछ कार्य की अनुमति नहीं है जो एक तरह से बिलकुल सही है।

जिनकी वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक आता हो वे डेडिकेटेड होस्टिंग का ही उपयोग करते है। Hostgator पर आपको यह होस्टिंग मिल जायेगा, इंडिया में आपको यह होस्टिंग करीब 8800 से मिल जायेगा।

4. Reseller web hosting 

Reseller web hosting यूजर को खुदके वेब होस्ट बनने देता है यानि आप वेब होस्टिंग की रेसेल्लिंग कर सकते है यानि यह एक बिज़नेस टाइप होस्टिंग है। जिसमे एक कंपनी होस्टिंग प्रदान करती है जिसमे drive स्पेस को अन्य के पास से लेता है, दूसरी कंपनी उन्हें bandwidth देता है मतलब मध्य भाग का व्यवसाय, फिर तीसरा पक्ष कुछ space प्रदान करता है इन तरीको से इस कार्य को किया जाता है। 

हेना बिज़नेस टाइप .. reseller होस्टिंग अपने क्लाइंट्स को होस्टिंग देती है जिससे यूजर खुद webhost बनता है या बन सकता है। 

इसके लाभ के बारे में जानते है .... 

आप इस होस्टिंग के जरिये पैसे कमा सकते है इसमें एक वेबसाइट की आवश्कता है फिर उसे आप होस्टिंग कंपनी के रूप में काम कर पैसे कमा सकते है। 

वेबसाइट या ब्लॉग में आप अपने तरीके से होस्टिंग के प्लान्स बना कर यूजर को दे सकते है। इसमें आपको cpanel बनान होगा जिससे आप स्टार्ट उप प्लान्स और सेविंग्स अकाउंट से पैसे कमा और सेव कर सकते है। 

5. VPS web hosting

(VPS) जिसका पूरा फुल फॉर्म है virtual private server. यह होस्टिंग वेबसाइट और ब्लॉग को परफॉर्मेंस के लिए काफी उत्तम है। जिसमे आप शेयर्ड होस्टिंग और डेडिकेटेड होस्टिंग के गुण देखने मिल सकते है। कई छोटे बिज़नेस शेयर्ड होस्टिंग का उपयोग करते है लेकिन vps होस्टिंग सर्वर और वेबसाइट के लिए काफी अच्छा है।

VPS होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग के मामले में काफी अच्छी सेवाएं यूजर को प्रदान करता है। जिसके इस्तेमाल से यूजर अपनी वेबसाइट में पावर और लचीलापन देख सकता है।

भौतिक रूप से समझे तो सर्वर को बोहत सरे virtual सर्वर के साथ होस्ट करते है बाद उसमे से अन्य दूसरे सर्वर को अलग करते है। उसमे VPS सर्वर्स के अंदर चलने वाला सर्वर है, इन सर्वर्स को हायपरवाईजऱ कहा जाता है जिन्हे सॉफ्टवेयर के जरिये बनाया गया है।

VPS में हर एक सर्वर खुदका ऑपरेटिंग सिस्टम यूज़ करता है, इनमे यह समझना थोड़ा कठिन हो जाता है की यह स्वतंत्र सर्वर्स है। इन सर्वर्स को मूल्य रूप से रिबूट भी किया जाता सकता है।

VPS होस्टिंग वेबसाइट और ब्लॉग के लिए अच्छी है आप चाहो तो इस्तेमाल कर सकते है।

6. Grid web hosting

Grid web hosting इस वेब होस्टिंग में आपको एक तरह से रेंट पर कुछ स्पेस दिया जाता है लेकिन संभावित रूप से शेयर्ड को मशीन में स्तिथ नहीं किया जाता, यह virtual मशीन की तरह है जो क्लस्टर पर होस्ट की जाती है।

यानि यह एक मशीन पर आधारित है जिसमे कुछ सिमा तक कार्य है इसके आगे संसाधन बाहर निकल सकते है। शेयर्ड होस्टिंग में आप बोहत सी चीज़े को साथ रख सकते हो उसके सर्वर काफी लिमिट तक अच्छे भी है लेकिन ग्रिड होस्टिंग वर्चुअल सर्वर है यानि काफी लचीली है जो खास कर वर्चुअल वेबसाइट में उपयोग होता है।

अगर आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का ट्रैफिक बढ़ता है और पॉपुलर होता है तो इससे ग्रिड होस्टिंग में कोई फर्क नहीं पड़ता उसका कार्य में आपको कोई कठिनाइया नहीं होगी।

⇛ Web hosting  कैसे काम करती है : -

कई सारी वेब होस्टिंग के लिए कंपनी होती है जो ऑनलाइन हर वेबसाइट या ब्लॉग के ओनर को वेब होस्टिंग उपयोग करने की सुविधा देती है। 

होस्टिंग में वेबसाइट और ब्लॉग के पोस्ट की फोटोस, वीडियो, डाक्यूमेंट्स, कंटेंट जैसी कई सामग्री स्टोर रखती है जिससे हर रीडर को हर समय कंटेंट एक्टिव मिल सके। वेब होस्टिंग के लिए आपको हर महीने कुछ पैसे देने होते है। 

इंटरनेट के माध्यम से जब भी कोई आपकी साइट पर आएगा तो उसका डिवाइस होस्टिंग के सर्वर से कनेक्ट हो जायेगा जहा अपने होस्टिंग खरीदी हो। उसके बाद होस्टिंग में स्टोर हुए कंटेंट, फोटोज अदि उसके डिवाइस पर शो करेगा। 

⇛ Web hosting कहा से ख़रीदे : -

हर वेबसाइट या ब्लॉग ओनर को होस्टिंग की जरुरत होती ही है और आप अपनी वेबसाइट को सफल बनाना चाहते है तो यह काफी जरुरी है। 

अब सवाल यह है की अपने वेबसाइट या ब्लॉग के लिए सबसे बेस्ट वेब होस्टिंग कहा से ख़रीदे ?

दोस्तों इंटरनेट पर बोहत सारी वेबसाइट है जो होस्टिंग सेल्ल करती है लेकिन उनमे से में कुछ ही होस्टिंग के बारे में आपको बताऊंगा जो सफल वेबसाइट और ब्लॉग के लिए बेहतर है। 

यही बेस्ट होस्टिंग कंपनी है जहा से आप होस्टिंग खरीद सकते है सारे पॉइंट्स में लिंक दे दिया है आप उसपे क्लिक होस्टिंग के प्लान्स देख सकते है। 

तो आजकी मजूरी यही ख़तम होती है, में आशा करता हूँ आप इस कंटेंट को पसंद करे और मेरे इस छोटे से ब्लॉग को सब्सक्राइब करना ना भूले। 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए खुब खूब धन्यवाद। 

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Please do not enter any spam link in comment box!

Ads Post 2

Ads Post 3