Learn Free Digital Marketing In Hindi - स्ट्रेटेजी कैसे काम करती है [Chapter 3]

हेल्लो सुपर फ्रेंड्स, जैसा की हमने दूसरे चैप्टर में सीखा की डिजिटल मार्केटिंग क्या होती है उसमे हमने काफी कुछ जाना जो डिजिटल मार्केटिंग करने के लिए जरुरी होती है। तो आजके चैप्टर में हम सीखेंगे की बिज़नेस की स्ट्रेटेजी किस तरह से काम करती है और इसको किस तरह किया जाये।

तो आगे बढ़ते है ....



एक बिज़नेस की स्ट्रेटेजी बनाना काफी जरुरी होती है क्यूंकि इसी पर बिज़नेस की सफलता निर्भर है, तो इसी तरह अगर में ऑनलाइन स्टोर या ऑनलाइन कैंपेन चलता हूँ तो मुझे उसकी स्ट्रेटेजी निक्षित करना बोहत जरुरी है यही हमे इसकी प्रॉपर रिजल्ट देता है। इस लिए पहले में मेरे बिज़नेस की स्ट्रेटेजी बनाऊंगा जिससे में अपनी सफलता को माप पाउ।

हर कोई यही कोसिस करता है की वह मार्केटिंग में अच्छी श्रेणी बनाये रखे या उस लेवल तक पोहच पाए। कई ऐसी ऑनलाइन services होती है जो फ्री भी होती है जिसका हम उपयोग कर सकते है, जैसे बेसिक लेवल तक कोई भी उसे एक्सेस कर पाता है।

जैसे की हर कोई चाहता है अगर उसे सारी services मिल रही हो इतनी आसान तरीके से तो वह जल्दबाज़ी करके इस फील्ड में चला जाता है यानि मार्केटिंग में अपना प्रोडक्ट लेकर आता है। इसमें दी गयी सर्विस से ज्यादा से ज्यादा लोगो के बिच पोहचा जा सकता है जो मार्केटिंग में जरुरी है लेकिन, वे इस काम को जल्दबाज़ी में करतो देते है जिससे फिर वे स्ट्रेटेजी में समय इन्वेस्ट करना रेह जाते है।

वे इस फील्ड में आ जाते है लेकिन स्ट्रेटेजी की वैल्यू उन्हें बादमे होती है,यानि की वे आगे जाकर असफलता देखते है ,तो हमे जल्द बाज़ी नहीं करनी है स्ट्रेटेजी को भी महत्व देना है,  स्ट्रेटेजी से  हम हाई लेवल की सफलता अचीव कर सकते है।

डिजिटल मार्केटिंग में जरुरी है की आप स्ट्रेटेजी को समजे डिजिटल मार्केटिंग शुरू करने से पेहले इसको समय दे और इससे अपनी अचीवमेंट को टारगेट करे जिससे एक उत्तम सफलता हासिल हो।

ROI 

( Return of Investment ) सिर्फ मकसद यह नहीं रेहता की आप डिजिटल मार्केटिंग को प्रोडक्ट को ज्यादा से ज्यादा sell करे, हमे यह भी ध्यान रखना है की अगर कोई प्रोडक्ट खरीदता है तो वे हमारी वेबसाइट को भी विजिट करे उसी के साथ हमारे दूसरे प्रोडक्ट में रूचि ले अपने ईमेल contact से हमारी आने वाले कंटेंट को पसंद करे। इसी को return of investment केहते है, जिससे हमे काफी बेनिफिट्स होंगे यह स्ट्रेटेजी में आता नियम है।

स्ट्रेटेजी ना होने के नुकशान :

अगर डिजिटल मार्केटिंग में स्ट्रेटेजी ना बनायीं जाए तो कोनसे नुकशान हमे देखने मिलेगें। जैसे मान लेते है मेरे पास एक अच्छा प्रोडक्ट है और  services भी अच्छी दे रहा हूँ उसी के साथ लोगो में मेरी कंटेंट की अच्छी छवि है, लोगो को अट्रेक्ट भी कर लू, लेकिन मेरी स्ट्रेटेजी प्लान नहीं है तो में इसमें long टर्म तक अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाउँगा इसमें कोई सक नहीं।

क्यूंकि स्ट्रेटेजी इतनी जरुरी है वह एक उदाहरण से समझते है , जैसे हम दो मोबाइल ले लेते है एक तरफ nokie और दूसरी तरफ xiaomi . इसमें कोई सक नहीं की नौकिए भारत का पुराना और टिकाऊ फोन था, लेकिन आजके युग में हमे नौकिए ज्यादा sell होता हुआ नहीं दीखता।

क्यूंकि  एक तरह से उसमे लोगो की needs पर फोकस नहीं रखा, लोगो की मांग देखे तो उन्हें कम price में ज्यादा features मिले जब तक xiaomi जैसे प्रोडक्ट मार्किट में नहीं आये तब तक nokie मार्केट में काफी चला। xiaomi ने लोगो उनके बजट में अच्छा कैमरा मेमोरी जैसे कई अन्य अच्छे फीचर्स दिए जो लोगो को काफी अट्रैक्ट किया जिससे आप इसकी सफलता देख सकते है। यह टॉपिक सिर्फ उदहारण में लिया गया है।

इससे हम स्ट्रेटेजी का पता लगा सकते है की कैसे समय के साथ लोगो की needs और मांग बदलती है। यहाँ हमे अच्छी services के लिए भी स्ट्रेटेजी बनानी होती है, ऐसी बोहत सी चीज़े पेहले से निक्षित करनी है।

Digital Marketing की Stategy :


3 स्ट्रेटेजी होती है जो डिजिटल मार्केटिंग में आवश्यक होती है। जैसे की आप ऊपर इमेज में देख सकते है।

Business strategy - जिसके हमारा यही लक्ष्य होना चाहिए की हमारे बिज़नेस को हाई लेवल तक ले जा सके।

Customer strategy - इसमें हमे कस्टमर को समझना है की कस्टमर की needs क्या है आखिर उन्हें किस प्रोडक्ट की requirement है, जिसे हम हल कर सके।

Marketing strategy - यह विषय में हमे मार्केटिंग को सीखना है जिसमे कस्टमर की जरूरियात और किस तरह बिज़नेस को मार्केट में बढ़ाया जाये इन तरीको पर हमे प्लानिंग करती रेहनी है।

इसके बोहत और चीज़े है जो हमे सीखना जरुरी है जिसे हम आगे सीखेंगे, अभी strategy को focus करते है।


  • डिजिटल मार्केटिंग की स्ट्रेटेजी को हमे बिज़नेस को समझना होता है हमारी कोसिस बिज़नेस को बढे पद तक ले जाना होता है। 
  • उसके बाद कस्टमर को requirement को समझना है यानी की आपका प्रोडक्ट सही उम्र और जरूरमंद के पास ही पोहचना चाहिए जिस उम्र के कस्टमर प्रोडक्ट के लिए सख्सम है उन्हें है प्रोडक्ट देना है। 
  • आपको सही रास्ता चुनना होगा की आपके प्रोडक्ट के मुताबिक ही आपका कस्टमर होना चाहिए। इसका मतलब आपका कस्टमर कोनसे सोशल प्लेटफार्म पर ज्यादा एक्टिव है वहा आपको अपना प्रोडक्ट ले जाना है। 
ऊपर दिए गए पॉइंट्स को बारीकी से समझे क्यूंकि डिजिटल मार्केटिंग का काम करते वक़्त आपको यह बाते ध्यान में रखना जरुरी है। 

उसके बाद अगर आप इस स्ट्रेटेजी को अच्छे से समज लेते है तो आप अपने बिज़नेस में काफी अच्छे से तरह से फोकस हो जाओगे। इससे आप एक बेस्ट लक्ष्य बना लोगे आप अपने बिज़नेस को बढ़ाने के लिए नए नए रस्ते खुदसे बनाने लगोगे जो आपको सफलता की और ले जाएगी। 

इसमें आपको एक और बात ध्यान में रखनी है आपकी डिजिटल स्ट्रेटेजी में जो पहले प्रोडक्ट में अपने स्ट्रेटेजी बनायीं है वो दूसरे प्रोडक्ट के लिए नहीं ले जा सकते प्रोडक्ट के हिसाब से आपकी स्ट्रेटेजी तय होनी चाहिए जैसे की,

अगर में shoes का प्रोडक्ट को कस्टमर के उम्र को और gender ध्यान में रखके मार्केटिंग करता हूँ तो वही स्ट्रेटेजी में रेस्टोरेंट के लिए अप्लाई नहीं कर सकता उसके लिए मुझे नयी स्ट्रेटेजी बनानी होगी। 

जैसे ही आप इसे सिख लेते है आप क्लियर बिज़नेस goal बना लोगो, आपकी प्रोडक्ट की requirement और कस्टमर की requirement को आप माप सकते हो( आपको ऐसे तरीके से प्रोमोट करना जिससे आपका प्रोडक्ट और कस्टमर की requirement अलग ना जाये ), इससे आप यह भी सिख लोगे की कस्टमर को कोनसी जरूरियात ज्यादा है, इससे आप return of investment हासिल कर पाओगे और वो भी बोहत कम नुकशान पे अगर आप स्ट्रेटेजी बना लोगे। 

तो यही हमारा स्ट्रेटेजी का पूरा चैप्टर पूरा होता है। इस वेबसाइट को subscribe करना ना भूले निचे दिए गए chat में आपका ईमेल id जरूर भेजे जिससे आप हमारा मनोबल बढ़ा सकते है। 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। 
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Please do not enter any spam link in comment box!

Ads Post 2

Ads Post 3