Learn Free Digital Marketing In Hindi - कस्टमर स्ट्रेटेजी कैसे बिल्ड करे [Chapter 5]

हेय दोस्तों, आशा करता हूँ इस कठिन समय में आप सब सलामत होंगे। में माफ़ी चाहता हूँ क्यूंकि डिजिटल मार्केटिंग के चैप्टर हर दिन publish नहीं कर पा रहा हूँ। क्यूंकि इसमें में थोड़ा समय देकर काम कर रहा हूँ और दूसरे वीडियो प्लेटफार्म पर भी में काम रहा हूँ लेकिन मे कोसिस करूँगा हो सके उतनी जल्दी आपको डिजिटल मार्केटिंग के सारे चैप्टर सीखा दू।



जैसा की हमे चैप्टर 4 में सीखा किस तरह से बिज़नेस स्ट्रेटेजी बनायीं जाती है और क्यों यह महत्त्व की है, आजके भाग में हम सीखेंगे की कस्टमर स्ट्रेटेजी क्या है और यह कितनी महत्त्व की है। तो चलिए आगे बढ़ते है।

कस्टमर स्ट्रेटेजी का सीधा मतलब है हमे ऑडियंस को समझना है यानि उनकी requirement पर ध्यान रखना है। क्यूंकि यही काम बोहत जरुरी और ध्यान पूर्वक यद् रखना है, अगर इ कॉमर्स जैसी वेबसाइट अपने प्रोडक्ट को गलत जगह प्रोमोट करेंगे तो वह प्रॉफिट नहीं कर पाएंगे और नहीं requirement के कस्टमर तक पोहच पाएंगे।

यह प्रमोशन अलग तरीके से किया जाता है की हम यूट्यूब पर learning के वीडियो देखते है तो वहा हमे एजुकेशन के related advertising देखने मिलती है अगर हम फनी वीडियो देखते है तब हमे टिकटोक जैसी advertising दिखाई जाती है क्यूंकि यह पेहले से बनायीं जाती है जिससे वह हमारी requirement तक आसानी से पोहच सके।

जितना हम कस्टमर के ऊपर स्टडी करेंगे उतना ही हमारे ग्रो होने चान्सेस है। क्यूंकि लोगो की जरूरियात समझा और उनको अच्छी सर्विस देना डिजिटल मार्केटर का कार्य है इस लिए इस विषय में हमे जितना ज्ञान मिलता है उतना लेना चाहिए। जिससे हमे हमारे प्रोडक्ट के अनुशार कस्टमर मिले।

इसको हम कुछ टॉपिक्स के जरिये ज्यादा विवरण में समझेंगे।

सही Audience तक पोहचना :

जैसा की मैंने आपको पेहले बताया हमे करेक्ट कस्टमर तक पोहचना है यानि की बोहत ज्यादा मात्रा में ऑडियंस है उसमे से जो आपके बिज़नेस के रिलेटेड है वह हमारी करेक्ट ऑडियंस है। मार्किट काफी बड़ा है हर कस्टमर हर बिज़नेस से नाता नहीं होगा, ऐसा इस लिए क्यूंकि इनमे कुछ पुरुष होते है कुछ महिला, फिर उम्र का फर्क उसके youngster होते है और बच्चे भी होते है इस लिए मार्केट में बिज़नेस कस्टमर अलग होते है।

अब इन सब मेसे हमे हमारे कस्टमर को चुनना है जैसे youngster के योग्यता से कोई प्रोडक्ट में मार्किट में लाते हूँ तो ज्यादा तर मेरी कोसिस यही रहेगी के में youngster तक अपना प्रोडक्ट लेकर पोहच पाऊ क्यूंकि ये मेरा बिज़नेस से रिलेटेड होता है। तो इस चीज़ को हमे काफी गहराई से समझना है।

अगर आप सही कस्टमर तक पोहचते हो प्रोडक्ट के हिसाब से उन लोगो के बिच जाते हो तो पूरी संभावना है की आप मार्केटिंग में अच्छा प्रदशन कर पाए। इससे आपके डिजिटल मार्केटिंग के सफर में ग्रोथ कर पाओगे तो यह चीज़ भी हर पॉइंट्स की तरह जरुरी है।

Customer की जरूरतों को समझे :

जैसा की हम जानते है इस खेल में कस्टमर बोहत जरुरी है सारी रणनीति हमे कस्टमर के लिए ही बनानी है। तो यह काम करने में हमे थोड़ा समय लग सकता है। असल में इसमें हमे थोड़ा समय देना होता है, जिसमे हमे कुछ रकम तक इन्वेस्ट करने होते है और समय भी लेकिन जितना भी हम समय और इन्वेस्ट करते है उनमे लक्ष्य यही है की हमे टार्गेटेड ऑडियंस तक पोहचना है।

जैसे ही हम यह सिख जाते है और सही तरीके से करते है तो हमे आगे चलके अच्छा रिजल्ट मिलता है और भविष्य में भी हम अच्छा प्रदशन कर पाते है।

मेरा आपसे यही सुझाव है की भले आपके competitor खेल में थोड़ा आगे हो लेकिन पेहले आप कस्टमर स्ट्रेटेजी बनाले कुछ दिन इन्वेस्ट करके उसके बाद ही मार्केट में उतरे क्यूंकि जितनी जल्दबाज़ी करोगे उतना ही फिर फिरसे शुरू करने में समय देना होगा। हम चैप्टर 1 से सिखते आ रहे है मार्केटिंग का नियम है कस्टमर को समझना  उसकी requirement को ध्यान में रखना।

इसमें थोड़ा समय देना होगा आपको कस्टमर ढूंढ़ना होगा प्रोडक्ट और कस्टमर को समझना होगा यह नियम याद रखे।



  • जब शुरुआत होती है उसमे मुख्य भाग हमारा यह है की कस्टमर के goal को हम पेहचाने। जिससे उन्हें हमारी तरफ से अच्छी सर्विस मिले। 
  • कस्टमर स्ट्रेटेजी बनाने में सबसे जरुरी है की आप इसमें time को इन्वेस्ट करे क्यूंकि जितना समय आप सही कस्टमर ढूंढ़ने में लगाओगे उतना है आपकी मार्केटिंग बेटर होगी। 
  • जितना हमसे हो सके उतना पेहले सिखने की कोसिस करो, इसमें ऐसा नहीं होता की अगर अपने एक स्ट्रेटजी रह गयी तो बादमे सिख लेंगे ऐसा बिलकुल नहीं है ज्ञान होना बोहत आवश्यक है। 
  • कस्टमर स्ट्रेटेजी बनांते वक़्त अगर आप गलती करते है तो इसमें काफी नुकशान देखने पड सकते है इस लिए कस्टमर को समझने (requirement) में गलती ना करे। 
  • ऐसा नहीं है की आप हरदम एक ही स्ट्रेटेजी पर काम करते रहो आप चाहो तो आगे चल कर नयी स्ट्रेटेजी भी बना सकते हो या थोड़े फेरबदल कर सकते हो। 
जैसे ही इसको आप स्टडी कर लेते हो फिर आप प्रोडक्ट को लेकर मार्केटिंग में उतर सकते हो उसके बाद अनुभव के जरिये आप यह सिख ही जायेंगे की क्या आपके प्रोडक्ट के लिए अच्छा है और क्या नहीं।

उसके बाद आगे बढ़ते है और चलते है कुछ सवालो की तरफ, यह सवाल हमे अपने आप से करने है कस्टमर segment को समझने के लिए। 

  1. प्रथम यही की ऐसी कोनसी चीज़ है जिसको लेकर यानि शुरुआती समय में आप उसे लेकर कस्टमर के बिच जाना चाहते हो? बात यह नहीं की प्रोडक्ट आपको पसंद है क्या वो लोगो के भी पसंद है या नहीं?  
  2. आपकी टार्गेटेड ऑडियंस कोनसी है जिसमे आप अपने प्रोडक्ट ले जा सको। क्यूंकि यही पढ़ाव है जहा हमे पूरी तरह से क्लियर goal रखना है। 

Worksheet :



जैसा की आप ऊपर के इमेज में देख सकते है कस्टमर स्ट्रेटेजी की वर्कशीट। मैंने बिज़नेस स्ट्रेटेजी में वर्कशीट दिखाई थी जहा पर हमे हमारा लक्ष्य और mission, description लिखना था। कस्टमर स्ट्रेटेजी की वर्कशीट थोड़ी अलग है स्पेशल यह कस्टमर को टारगेट करने के लिए बनायीं जाती है इसे आप माइक्रोसॉफ्ट excel में बना सकते है या फिर canva और अपने बुक में भी लिख सकते है। 

जैसा की इसमें पहले हमे बिज़नेस का नाम लिखना है, उसके बाद अपने mission का statement को लिखना है, यह उसी तरह  जैसा हमने बिज़नेस स्ट्रेटेजी के वर्कशीट में देखा था। उसके बाद है टार्गेटेड ऑडियंस उसमे आपको 3 विभाग बनाने है जिनमे आपका टारगेट क्या रहेगा मेरा टारगेट है की हर रीडर तक make money और blogging के कंटेंट पोहचना दूसरा सफल लोगो की जीवनी बताना और फिर डिजिटल मार्केटिंग सीखने वाले को टारगेट करना। 

यह विषय मैंने मेरी वेबसाइट को ध्यान में रख कर बनाया है आपको प्रोडक्ट और फिर लोगो के बिच को समजके इसको क्रिएट करना है। 

इसके बाद है कस्टमर का goal क्या रहेगा, इसके बारे में थोड़ा समय देकर सीखना है जांचना है। इसमें भी 3 भाग में समझना है जो हमारा पहला कस्टमर होगा वह practical knowledge रखता है, दूसरे कस्टमर की requirement यही रहेगी की उसे conceptual knowledge रहेगी यानि वह अपनी कल्पना अनुसार requirement रखेगा। फिर है हमारा तीसरा कस्टमर वो अलग है वह creatively अपने requirement रखेगा तो उस तरह से हमे प्रक्रिया बनानी होगी। 

उसके बाद है कस्टमर की technology की आखिर कस्टमर कोनसे platform पर ज्यादा समय व्यतीत करता है। वह गूगल पर ज्यादा एक्टिव रहता होगा या फिर सोशल नेटवर्क पर। तह इसको हमे add करना जरुरी है। 

यह मैंने अपने तरीके से आपको बताने की कोसिस की है बाकि यह चीज़े आपको ही सीखनी होगी आखिर आपका कस्टमर कोनसे नेटवर्क पर ज्यादा एक्टिव है उसकी requirement क्या है और आपका प्रोडक्ट, कस्टमर का goal . 

यह सारी चीज़े अगर आप कर लेते हो और अच्छे से सिख लेते है तो एक तरह से बेसिक लेवल तक इसको आप समज जायेंगे इसकी प्रक्रिया। उसके बाद जैसे जैसे कदम आगे बढ़ाते हो अनुभव से सीखते जायेंगे। 

जैसे ही आप यह process सिख जाते है तो आप सिर्फ एक कस्टमर के लिए नहीं बल्कि अलग अलग कस्टमर के लिए भी segment बना सकते हो, यानि की प्रक्रिया को विभाजन और planning कर सकते हो। 

बिज़नेस स्ट्रेटेजी में हमने सीखा था, हमारा बिज़नेस का goal उसी तरह कस्टमर स्ट्रेटेजी में हमे इसको दाखल करना होगा, यानि की इसमें कई goal रखने पड़ते है ऐसा समझये क्यूंकि कस्टमर सोशल मीडिया पर ज्यादा एक्टिव है तो goal यही रहेगा की वहां से कस्टमर को अपने प्रोडक्ट तक आकर्षक कर पाए। 

इसमें हमे कॉमन goal बनाना है जिसमे कस्टमर का goal और बिज़नेस का goal दोनों मेल खाता हो। उदहारण में आपका मेरा goal था कस्टमर को अच्छी और quality सर्विस देना और यह कस्टमर का भी goal था। 

इसके बाद कोसिस यही रहेगी की जो टार्गेटेड ऑडियंस थी उस पर नजर रखना है मतलब रिजल्ट को ध्यान में रखना है की कितने विसिटोर्स सोशल मीडिया के true आपके वेबसाइट पर आ रहे है जो अपने planning की थी उसके  result मिल रहा है या नहीं। 

कस्टमर स्ट्रेटेजी में आपको कस्टमर segment बनाना बोहत जरुरी है क्यूंकि इसके मदद से ही आप कस्टमर स्ट्रेटेजी को सही मोड़ दे सकते हो जो सारि requirement ऑडियंस की होती है उसे है कस्टमर segment में विभाग बना कर लिख सकते है जो आपको important लगे उसे शामिल कर सकते है। 

  • हमेसा ध्यान रखे की कस्टमर स्ट्रेटेजी जब भी आप करे तब वह एक तरह की ना हो नए प्रोजेक्ट में नयी स्ट्रेटेजी बनाये। हर बार different स्ट्रेटेजी से काम करे। 
  • कस्टमर segment बनाना बोहत आवश्यक है इससे इस स्ट्रेटेजी को आप सही रुख दे सकते है। 
जैसे ही आप यह सारी process सिख जाते आप अपने मार्केटिंग के बढे पड़ाव को पार करने में सक्षम बनते जाते है। और उसके इसमें कोनसी चीज़े नुकशान दायक है उस पर भी काम करे। 

आजका चैप्टर यही समाप्त होता है आप अपने ईमेल सब्सक्राइब करके हमारा मनोबल बढ़ा सकते है। आगे के चैप्टर में हम सीखेंगे की मार्केटिंग स्ट्रेटेजी कैसे बनायीं जाती है। 

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। 
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Please do not enter any spam link in comment box!

Ads Post 2

Ads Post 3